हरियाणा

हरियाणा कांग्रेस के नए प्रभारी के सामने पहली ही मीटिंग में गुटबाजी आई सामने, हुड्डा और शैलजा समर्थकों में लगे भावी सीएम के नारे

हरियाणा कांग्रेस के नये प्रभारी दीपक बाबरिया की मौजूदगी में हुई पहली ही बैठक में कांग्रेस की गुटबाजी एक बार फिर खुलकर सामने आ गई

Haryana News: हरियाणा कांग्रेस के नये प्रभारी दीपक बाबरिया की मौजूदगी में हुई पहली ही बैठक में कांग्रेस की गुटबाजी एक बार फिर खुलकर सामने आ गई. बैठक के दौरान कुमरी सैलजा और भूपेंद्र हुड्डा समर्थकों के बीच जमकर बहस और नारेबाजी हुई. बैठक के दौरान जब पूर्व हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा बोलने के लिए मंच पर आईं तो किसी कार्यकर्ता ने भूपेंद्र हुड्डा के नारे लगाने शुरू कर दिये. जिसके बाद कुमारी सैलजा के समर्थक भी नारे लगाने लगे. दोनो गुटे के समर्थकों ने अपने नेताओं को भावी सीएम बताते हुए नारे लगाये.

 

कांग्रेस के दो दिग्गज नेताओं के समर्थकों के बीच इस नारेबाजी से बैठक में कुछ देर के लिए हंगामे की स्थिति उत्पन्न हो गई. बताया जा रहा है कि इस दौरान भूपेंद्र सिंह हुड्डा और सैलजा समर्थकों के बीच तीखी बहस भी हो गई. बाद में किसी तरह इस हंगामे को शांत कराया गया।

 

 

बैठक में अपना भाषण देकर कुमारी सैलजा बैठक से जल्दी निकल गईं हलांकि इसके पीछे उन्होंने अपनी फ्लाइट होने का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि उनके कई और भी कार्यक्रम हैं इसलिए प्रभारी की अनुमति लेकर जा रही हैं.

भूपेंद्र हुड्डा और कुमारी सैलजा के समर्थकों ने अपने-अपने नेताओं को हरियाणा का भावी मुख्यमंत्री बताया. इसको लेकर जब कुमारी सैलजा से बात की गई तो उन्होंने भी स्वीकार किया और हंसते हुए कहा कि यहां सारे नेता भावी मुख्यमंत्री हैं. प्रभारी के सामने ही नारेबाजी हो रही है तो गुटबाजी कैसे खत्म होगी. इस सवाल पर कुमारी सैलजा ने बेहद हल्के अंदाज में कहा कि जो है सब ठीक है।

 

 

वहीं रैलियों के दौरान भूपेंद्र हुड्डा द्वारा किये जा रहे वादों पर उन्होंने कहा कि हमारे साथ इस पर कोई चर्चा नहीं की गई. ना ही हमें इसके बारे में मालूम है. ये आधिकारिक घोषणा पत्र नहीं है. समय आने पर मेनिफेस्टो कमेटी ये सब घोषणाएं तय करेगी. वहीं संगठन नहीं बनने पर उन्होंने कहा कि ये तो कमजोरी है कांग्रेस पार्टी की, जिसके चलते पार्टी का ग्राफ 2005 के बाद से नीचे गिरता जा रहा है।

Back to top button